अपने परिजनों को कज़िन प्रेम विवाह के लिये कैसे मनाऐ?

हो सकता है कि ये एक कड़वा सत्य हो, पर हाँ, एक सुखी कज़िन प्रेम विवाह के लिये आपको अपने माता-पिता को मनाना होगा। अगर ये आपके लिये संभव न हो तो भी आपके पास कई रास्ते हैं।

एक पुरानी कहावत है:-

जो आपको मार नहीं पाता, वो आपको ताकतवर बना देता है।

लोग शादी करने के लिये मरे जा रहे हैं। अफ़्सोस, प्रेमियों के साथ भी ऐसा ही है। लेकिन जो आम मानसिकता से परे जा चुके हैं उन्हें शादी के होने-न-होने की कोई परवाह नहीं। अगर आप अपने कज़िन से शादी करने के लिये मरे जा रहे हैं तो हो सकता है कि एक दिन आपकी जान चली भी जाये। आपको कभी भी शादी जैसी तुच्छ चीज के लिये नहीं मरना चाहिये।

सबसे पहले, इससे पहले कि आप अपने माता-पिता को कज़िन प्रेम विवाह के लिये मनाने जाएं, आपको ख़ुद इस बात को समझना होगा कि कज़िन आपका भाई/बहिन नहीं है। साथ ही आपको ये बात अपने माता-पिता को समझाने की हिम्मत भी दिखानी होगी। इस पर अगर वो आपका हुक्का-पानी बंद करने की धमकी दें तो कह देना कि तुम्हें फिक्र नहीं। लेकिन ऐसा करने के लिये आपको आर्थिक स्वतंत्रता प्राप्त करनी होगी। साथ ही ये तभी होगा जब आप शादी जैसे कर्म-कांड से ऊपर उठ चुके हो, यक़ीन मानो इससे आप ख़ुद को मजबूत महसूस करोगे।

कज़िन विवाह की वैधानिकता का मुद्दा सिर्फ़ हिंदू, जैन, बौद्ध और सिख समुदाय के लोगों के साथ है (शादी-विवाह के मद्दे क़ानूनन जैन, बौद्ध और सिख भी हिंदू है)। दुनिया के प्रमुख चार समुदाय में से सिर्फ़ हिंदुओं में ही ये समस्या है और इस पर भी ये समस्या ज्यादातर सिर्फ़ उत्तरी भारतीयों के साथ है। हालाँकि, जहाँ समस्या है वहाँ निदान है।

सत्य ही निदान है

जी, हाँ। हालाँकि कज़िन शादियां प्रतिबंधित हैं पर इसका सीधा-साधा मतलब है कि आप मैरिज़ रजिस्ट्रार के पास से शादी का प्रमाणपत्र नहीं ले सकते (ऐसा विदेशी मैरिज़ रजिस्ट्रार के साथ नहीं है)। आप जब तक चाहें तब तक अपने कज़िन के साथ उसकी मर्जी पर रह सकते हैं। आप बच्चे पैदा करिये, अपना परिवार बनाइये, घर बनाइये। छोटे शब्दों में, शादी की कोई ज़रूरत नहीं अगर आपके पास पर्याप्त पैसा, प्यार और खुला दिमाग है। लेकिन अगर आप बिना ब्याह गुज़ारे में विश्वास नहीं रखते तो हमारे पास एक और अचूक समाधान है।

कज़िन प्रेम विवाह पर अपने परिजनों को भी बुलाइये

लीजिये, अब आप जान गए कि आपको क्या करना है। पर ये हिम्मती लोगों के लिये है। भींगी बिल्लियाँ वापस जाएं, प्यार-मुहब्बत को चार गालियां दें और एक कोने में बैठ कर दुनिया के अंत का इंतिज़ार करें।

अपने परिजनों को शादी में बुलाने का मतलब है कि आप उन्हें रजिस्ट्री पोस्ट के ज़रिये शादी का निमंत्रण पत्र भेजे। रजिस्ट्री पोस्ट की रसीद इस बात का प्रमाण होगी कि आपके माता-पिता ने आपकी शादी को मूक सहमति दे दी है।

प्यार की राह पर आगे बढ़ने से पहले आपके पास अच्छा पेशा, जेब में रुपये, बैंक में मुद्रा (नई शुरुवात के लिये), हिम्मत जो अंत तक ख़त्म न हो और ऐसा प्यार चाहिये जो प्यार की हर कसौटी पर खरा उतरा हो। अगर आपकी/आपका प्रेमी अपने पैरों पर न खड़ी/खड़ा हो तो उसकी मदद कीजिये। प्यार की राह में कई इम्तिहान होते हैं और इन्हीं इम्तिहानों से आपको प्यार की सच्चाई का पता लगा सकते हैं।

Know How to test if your lover loves you most!!!

सत्यता में प्रेम में आपके साथी से ज्यादा आपका समर्पण मायने रखता है। साथी कुछ भी हो पर उसे फ़िर भी प्रेम करते रहेंगे। मेरी सलाह, अगर आपके साथी ने आपसे वाकई में प्रेम किया हो तब आप उसका साथ अपने जीवन के अंत तक न छोड़ियेगा। पर अगर आप नहीं जान पाये कि अगर आपकी पसंद ने आपको पसंद किया है तो उससे एक बार ज़रूर पूछ लीजिये।

इस जहान का सबसे कठिन कार्य है अच्छे रुपये कमाना। आज के दौर में तो ये और भी कठिन हो गया है। जब आपकी/आपका साथी ख़ुद को पैरों पर खड़ी/खड़ा करे तब तक आपका भी ऐसा ही करने का फर्ज़ बनता है। अगर आप पहले से रुपये कमा रहे हो तो अपने प्रेम को भी रुपये कमाने में मदद कीजिये, उसे आर्थिक स्वतंत्रता दीजिये, यही तो प्रेमी करते हैं। याद रखिये, अगर आपके परिजन आप पर किसी भी प्रकार का शारीरिक क्षति पहुंचाने के मद्दे से आक्रमण करते हैं तो आप तुरंत अपने प्रेमी/प्रेमिका के साथ जा सकते हैं।

P.S. Anyone reading this post must read LAWFUL SAFETY GUIDE FOR ELOPING LOVERS

याद रखें, सुरक्षा ही रक्षा है।

जब भी हमने प्रेम को परखा एक ही बात को जाना:-

“प्यार कोई कर्म या ओहदा नहीं, प्यार ही ज़िंदगी है और ज़िंदगी बहुत कठिन है।”

आप यक़ीनन अपने कज़िन के साथ रह सकते हैं पर इसके साथ ही आपको क़ानूनी मुक़दमे के लिये तैयार रहना होगा। आज के समय में परिजनों के सींग उग आए हैं। अगर आप ने किसी की बेटी से प्यार करने की हिम्मत की है तो उसके परिजन आपको झूठे बलात्कार के मुक़दमे में फँसाने से भी नहीं चूकेंगे। पर जहाँ समस्या है, वहाँ निदान है।

हालाँकि हमारा संविधान हमें हमारा जीवनसाथी चुनने का अधिकार नहीं देता पर वो हमें किसी के साथ, उसके मर्जी पर, रहने से भी नहीं रोकता। अगर कोई आपको किसी के साथ रहने से रोकता हो तो आप उस पर संविधान के अनुच्छेद 226 के अंतर्गत मुकदमा कर दें और कोर्ट को यह सूचित करें कि आप अपने माता-पिता के साथ और नहीं रहना चाहते/चाहतीं।

लेखक की सभी कज़िन प्रेमियों के लिये सलाह

अगर आप महिला हैं और अपने कज़िन से प्रेम करती हैं तो आपको इस बात के लिये संतुष्ट हो जाना चाहिये कि –

  • आप आर्थिक रुप से स्वतंत्र हैं। किसी भी और चीज से पहले इसे करें।
  • आप किसी भी परिस्थिति का सामना की हिम्मत रखती हैं।
  • आपने अपने प्रेमी के प्रेम को अच्छे से  परखा है। याद रहे, लोग उन्हीं को धोखा देते हैं जो उन पर यक़ीन करें। कभी भी असावधान न रहें।
  • आप किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिये शारीरिक और मानसिक रुप से सक्षम हैं। दुनिया में लोग कमजोर लोगों को ढूँढ़ रहे हैं जिन्हें वो वेश्यावृत्ति के दलदल से ढकेल सके या आतंकवाद फैलाने के लिये आत्मघाती हमलावर बना सकें। जिसे आप अच्छे से न जानते हो उस पर विश्वास न करें। अपने साथ हमेशा एक चाकू या पेपरवेट-दुपट्टा रखे। आप कहीं से भी पत्थर भी पा सकती हैं। याद रखिये हमलावर भी इनसान है और चोट उसे भी लगती है। साथ ही आप अपनी आत्मरक्षा में किसी की हत्या भी कर सकती हैं।

Read: – You have right to protect yourself

  • हमेशा एक अच्छे वकील को संपर्क में रखें। अगर आप अपने प्रेमी के साथ जाने का सोच रहीं है तो आपको भविष्य में याचिका दायर करनी पड़ सकती है।
  • दुनिया में अपने जैसे प्रेमियों के संपर्क में रहें। हो सके तो अपने आस-पास में मौजूद प्रेमियों के संपर्क में रहें। तकनीक के दौर में ये करना ज्यादा मुश्किल नहीं है, है क्या?
  • आपको आपकी सुरक्षा के लिये जो भी उपाय दिमाग़ में आए उसे तुरंत अपनाएं। याद रखें, आपके शत्रु आपकी लापरवाही की ही ताक में हैं। जहाँ आपके ख़ुद के परिजन आपके शत्रु बन बैठे हों वहाँ वो आपको ज्यादा हानि पहुँचा सकते हैं।

सुरक्षित रहें, क़ानून को माने और प्रेम करते रहें!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.