आपको भी मिलेगा देशभक्त होने का प्रमाणपत्र

कितने ही साल लग गए हमारे देश के पूर्व नेताओं को देशभक्त होने का तरीका खोजने में। कुछ ने तो आजाद रहने के लिये ख़ुद को गोली तक मार ली। पर अब आपको जान देने की ज़रूरत नहीं अंततः अब खोज पूरी हो चुकी है। वो तरीका खोज लिया गया है जिससे आप देशभक्त बन सकते हैं। आपको देशभक्ति का प्रमाणपत्र पाने के लिये चाहियेः-

  1. आप सरकार के हाँ में हाँ मिलाईये। हाँ, माना कि ये नीति अँग्रेज़ों की शुरू की गई थी ताकि भारत के लोग महारानी की हुकूमत के खिलाफ़ खड़े न हो सकें पर अब वो नीति ही आपको देशभक्त बनाएगी। तो क्या हुआ अगर अँग्रेज़ों ने वो क़ानून ख़त्म कर दिया है? हम तो अपने मन का करेंगे।
  2. किसी सवर्ण-हिंदू-जाति-संगठन के सदस्य बनिये। हाँ, ये ज़रूरी है। पता है भारत में कितने हिंदू हैं? 70% तो ये अगर सारे ग़रीबों को हटा दिया जाए तो भी हिन्दू ही जनसंख्या में अधिक हैं। जल में रहे मगर से बैर न कीजिये। हाँ, हाँ, हमें पता है कि मगरमच्छ के हिसाब से चलने पर भी मगरमच्छ सबको खा जाता है। चिंता मत करिये। जब तक आप हिंदूगिरी के धंधे को बढ़ाते रहेंगे, हम आपकी रक्षा करेंगे।
  3. “भारत माता की जय” कहिये। जी हाँ। क्या कहा आपने? कौन है ये भारत माता? हमें पता नहीं, हमने तो केवल अपनी माँ देखी है। भारत माता भी ऐसी ही एक माता है। अगर भारत माता की जय नहीं बोली तो हम क्या करेंगे? अरे, हम आपको देशदोही घोषित कर देंगे। क्या कहा आपने? आतंकवादी भी अपनी बात कहलवाने के लिये ऐसे ही धमकी देते हैं? अरे हम हिंदू हैं। हिंदू आतंकवाद कहाँ करते हैं? देखिये कन्या भ्रूण हत्या, दहेज प्रथा और बलात्कार का मुद्दा बीच में मत लाइये। देश को इस वक़्त सिर्फ़ देशभक्ति की ज़रूरत है। और फिर किसी औरत के जीने-मरने से देशभक्ति का क्या लेना देना?
  4. “राम मंदिर” बनाने में मदद कीजिये। साथ में भगवा वस्त्र पहिनये। और भी कई काम हैं। क्या कहा आपने? अच्छा, देश में बच्चे भीख मांगने को मज्बूर किये जाते हैं? तो हम क्या करें? उन बच्चों की जिम्मेदारी उनके माँ-बाप की है। आप बार-बार ऐसे मामूली मुद्दे देशभक्ति के बीच में क्यों ला रहे हैं? क्या मतलब कि देश में अच्छे अनाथालयों की भी कमी है?

लीजिये, देशभक्ति का प्रमाणपत्र आपका हुआ। देश में कई सारी समस्याएँ हैं, लोगों को वक़्त पर न्याय नहीं मिल रहा, लोगों को जीवनसाथी चुनने का भी अधिकार नहीं, औरतों को आऐं दिन डर-डर के जीना पड़ता है, दहेज के लिये आए दिन एक बीसों औरतें जला दी जाती हैं, पानी के लिये लोग एक दूसरे का क़त्ल करते हैं, बेरोजगारी हर जगह व्याप्त है, असली किसान आत्महत्या करने पर मज्बूर है और नेता-अभिनेता और कारोबारी किसान बन कर चाँदी काट रहे हैं, जनता टैक्स के बोझ तले दबी है, जाने देश का सारा सोना कहाँ जा रहा जिसके चलते रुपये का दाम घट रहा है, इत्यादि-इत्यादि। पर हमें देश की समस्याओं से क्या लेना देना? हमें तो देशभक्ति से मतलब है। मार्केट में अभी देशभक्ति का बोल-बाला है। देशभक्ति बिकेगी तभी तो वोट मिलेंगे।

अरें आप कहाँ चल दिये? आप भी तो देशभक्ति का प्रमाणपत्र ले लीजिये।

क्या कहा? देशभक्ति का प्रमाण पत्र आपको नहीं चाहिये?

आप ग़लती कर रहे हैं, आईये देशभक्ति के प्रमाण पत्र के फ़ायदे बताऐं आपको। देशभक्ति के प्रमाणपत्र के फ़ायदे

Note:- ये लेख तत्काल में चल रही गतिविधियों पर एक व्यंग्य है। कृपया इसे गंभीरता से लें और सोचें कि कौन वो लोग हैं जो देश की समस्याओं पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.